कर्म को मन से हटाकर ह्रदय से जोड़े

कर्म को मन से हटाकर ह्रदय से जोड़े                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                 अच्छे इंसान के पास सबसे बड़ा साधन उसकी नियत होती हे |आजकल का नियत क मामले में बड़े लापरवाह हे |जिसके नियत अच्छी होती हे, उसका साथ नियत भी देती हे |सवाल उठता ह की नियत अच्छी कैसे रखे ? इसमें सबसे बड़ी बाधा हे मन | वह जब किसी कृत्य जुड़ता हे ,सबसे पहले परिणाम पर टिक जाता हे की इससे मिलेगा क्या ? यदि मन तय ले कि परिणाम ये ही मिलना चाइये तो फिर  वह गलत रस्ते के लिए प्रेरित करता हे |यही से नियत डगमगाने लगती हे |जिन्हे नियत अच्छी रखनी हो उन्हें अपने कर्मो को मन से हटाकर बुद्धि और हृदय से जोड़ना चाइये |ऐसा  तब होगा जब मन का हस्तक्षेप मिटेगा |हिन्दू धर्म में हवन कि पद्द्ति हे | हवन एक ऐसी क्रिया जे जिसमे समूचा विज्ञानं ऊर्जा देने क लिए उतरा है| इसमें जब अग्नि प्रज्वलित होती है  तो मंत्रो द्वारा यह भी अहन किया जाता है कि उसके भीतर का तेज हमें अपने स्थान पर खड़ा रहने के लिए शक्ति दे |अगनि को वैराग्य का देवता का देवता मन जाता है |उसके भीतर कि तेजस्विता हममे  आत्मविश्वास पैदा करती है | इसलिए आपका सम्बन्ध किसी भी धर्म से हो ,अगनि के माध्यम का प्रयोग जरूर करे | हवन करते समय जब अगनि और मंत्र को जोड़ते  है तो परिणाम शत-प्रतिशत पॉजिटिव मिलते है और भीतर एक ऐसी ताकत आ जाती है कि फिर आप अपनी ही नियत के प्रति द्रढ़ होते है और दूसरे उसका बहुत अधिक मान करते है |                                                                                                                                                             पंडित  विजय शंकर मेहता 

776total visits,1visits today