कुछ चटपटी और मीठी बातें होजाये तो चलिए

कुछ चटपटी और मीठी बातें होजाये  तो चलिए…… 

If:
A = 1 ; B = 2 ; C = 3 ; D = 4 ;
E = 5 ; F = 6 ; G = 7 ; H = 8 ;
I = 9 ; J = 10 ; K = 11 ; L = 12 ;
M = 13 ; N = 14 ; O = 15 ; P = 16 ;
Q = 17 ; R = 18 ; S = 19 ; T = 20 ;
U = 21 ; V = 22 ; W = 23 ; X =24 ;
Y = 25 ; Z = 26.

                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                         Then,

H+A+R+D+W+O+R+K
=8+1+18+4+23+15+18+11
= 98%

K+N+O+W+L+E+D+G+E
=11+14+15+23+12+5+4+7+5
=96%

L+O+V+E
= 12+15+22+5
= 54%

L+U+C+K ;
=12+21+3+11
= 47%

None of them makes 100%.
Then what makes 100%?

Is it Money?
.
.
.
NO!

M+O+N+E+Y
= 13+15+14+5+25
=72%

Leadership?
.
.
.
NO!

L+E+A+D+E+R+S+H+I+P
=12+5+1+4+5+18+19+8+9+16
=97%

Every problem has a solution, only if we perhaps change our

     “ATTITUDE”…

A+T+T+I+T+U+D+E ;
1+20+20+9+20+21+4+5
= 100%

It is therefore OUR ATTITUDE towards Life and Work that makes
OUR Life 100% Successful.

Amazing mathematics                                                                                       मजेदार कहानी : बीरबल का रंग- रूप

With each alphabet getting a number, in chronological order, as above, study the following, and bring down the total to a single digit and see the result yourself

Hindu –
S  h  r  e  e   K  r  i  s  h  n  a
19+8+18+5+5+11+18+9+19+8+14+1
=135
=1+3+5 = 9

Muslim
M  o  h  a  m  m  e  d
13+15+8+1+13+13+5+4
= 72
= 7+2 = 9

Jain
M a  h a v  i  r
13+1+8+1+22+9+18
  =72
= 7+2= 9

Sikh
G  u  r  u   N  a  n  a  k
7+21+18+21+14+1+14+1+11
=108
=1+0+8 = 9

Parsi
Z  a  r  a  t  h  u  s  t  r a
26+1+18+1+20+8+21+19+20+18+1
=153
=1+5+3 = 9

Buddhist
G  a   u  t  a  m
7+1+21+20+1+13
=63
= 6+3 = 9

Christian
E  s   a  M  e  s  s  i   a  h
5+19+1+13+5+19+19+9+1+8
=99
9+9=18
1+8 = 9

Each one ends with number  9

THAT IS NATURE’S CREATION TO SHOW THAT GOD IS ONE

                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                        Sweet Joke

.
नर्सरी के बच्चे ने परीक्षा शीट पे सुसु कर दिया।

अध्यापिका: तुमने ये क्या किया?
.
बच्चा: मम्मी ने कहा था कि
पहले जो आ रहा हो वही करना                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                    

                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                  पहले  मम्मियां डराती थी बेटा बाहर मत जाना कान                                                                                                           काटने वाला घूम रहा है

                                   अब बच्चे डरा रहे हैं मम्मी बाहर मत जाना चोटी काटने वाला घूम रहा है                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                          मैने कत्ल किया।

                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                            जज     :- क़त्ल किसने किया?
आरोपी :- मैने कत्ल किया।

जज     :- लाश कहां है?
आरोपी :- लाश मैने जला दी

जज     :- वो जगह दिखाओ
              जहां लाश जलाई थी

आरोपी :- मैने सारी जमीन खोद दी

जज     :- खोदी हुई मिट्टी कहां है?
आरोपी :- उसकी मैने ईंटे बना दी
जज     :- तो वो ईंटे दिखाओ
आरोपी :- मैने उनसे मकान बना लिया।

जज     :- वो मकान कहां है?
आरोपी :- भूकंप से गिर गया।

जज     :- तो मलबा कहां है?
आरोपी :- वो मैंने बेच दिया।

जज     :- किसको बेचा?
आरोपी :- पड़ोसी को

जज     :- पड़ोसी को बुलाओ
आरोपी :- वो मर गया

जज     :- किसने मारा?
आरोपी :- मैने मारा।

जज     :- तो लाश किधर है?
आरोपी :- लाश मैने जला दी

जज     :- अबे उल्ले के पट्ठे, तूने मर्डर किया है या सर्जिकल स्ट्राइक किया है, हत्या को कबूल भी किये जा रहा है और कोई सबूत भी नही दे रहा मोदी का चेला है क्या ??                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                       प्रत्येक लाइन गहराई से पढ़े-

गरीब दूर तक चलता है….. खाना खाने के लिए……।
अमीर मीलों   चलता है….. खाना पचाने के लिए……।
                                  किसी के पास खाने के लिए….. एक वक्त की रोटी नहीं है…..                                          किसी के पास खाने के लिए….. वक्त नहीं है…..।
कोई लाचार है…. इसलिए बीमार है….।
 कोई बीमार है…. इसलिए लाचार है….।
 कोई अपनों के लिए…. रोटी छोड़ देता है…।
 कोई रोटी के लिए….. अपनों को छोड़ देते है….।
 ये दुनिया भी कितनी निराळी है। कभी वक्त मिले तो सोचना….
 कभी छोटी सी चोट लगने पर रोते थे…. आज दिल टूट जाने पर भी संभल जाते है।
 पहले हम दोस्तों के साथ रहते थे… आज दोस्तों की यादों में रहते है…।
 पहले लड़ना मनाना रोज का काम था…. आज एक बार लड़ते है, तो रिश्ते खो जाते है।
 सच में जिन्दगी ने बहुत कुछ सीखा दिया, जाने कब हमकों इतना बड़ा बना दिया।
जिंदगी बहुत कम है, प्यार से जियो                                                                           रोज सिर्फ इतना करो –

गम को        “Delete”

खुशी को       “Save”

रिश्तोँ को      “Recharge”

दोस्ती को      “Download”

दुश्मनी को      “Erase”

सच को         “Broadcast”

झूठ को         “Switch Off”

टेँशन को     “Not   Reachable”
प्यार को        “Incoming”

नफरत को       “Outgoing”

हँसी को          “Inbox”

आंसुओँ को       “Outbox”

गुस्से को          “Hold”

हेल्प को              “OK”

फिर देखो जिँदगी का
“RINGTONE” कितना प्यारा बजता है!

                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                         “जो भाग्य में है , वह
               भाग कर आएगा,
जो नहीं है , वह
          आकर भी भाग जाएगा…!”

यहाँ सब कुछ बिकता है ,
         दोस्तों रहना जरा संभाल के ,
बेचने वाले हवा भी बेच देते है ,
                    गुब्बारों में डाल के ,

सच बिकता है , झूट बिकता है,
                   बिकती है हर कहानी ,
तीनों लोक में फेला है , फिर भी
                  बिकता है बोतल में पानी ,

कभी फूलों की तरह मत जीना,
          जिस दिन खिलोगे ,
                  टूट कर बिखर्र जाओगे ,
जीना है तो पत्थर की तरह जियो;
          जिस दिन तराशे गए ,
                 “भगवान” बन जाओगे….!!

                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                           “रिश्ता” दिल से होना चाहिए, शब्दों से नहीं,
“नाराजगी” शब्दों में होनी चाहिए दिल में नहीं!

सड़क कितनी भी साफ हो
“धुल” तो हो ही जाती है,
इंसान कितना भी अच्छा हो
“भूल” तो हो ही जाती है!!!

आइना और परछाई के
जैसे मित्र रखो क्योकि
आइना कभी झूठ नही बोलता और परछाई कभी साथ नही छोङती……

खाने में कोई ‘ज़हर’ घोल दे तो
एक बार उसका ‘इलाज’ है..
लेकिन ‘कान’ में कोई ‘ज़हर’ घोल दे तो,
उसका कोई ‘इलाज’ नहीं है।

“मैं अपनी ‘ज़िंदगी’ मे हर किसी को
‘अहमियत’ देता हूँ…क्योंकि
जो ‘अच्छे’ होंगे वो ‘साथ’ देंगे…
और जो ‘बुरे’ होंगे वो ‘सबक’ देंगे…!!

अगर लोग केवल जरुरत पर
ही आपको याद करते है तो
बुरा मत मानिये बल्कि
गर्व कीजिये  क्योंकि “
मोमबत्ती की याद तभी आती है,
जब अंधकार होता है।”

.                                                                                                                                                                                                          ..मै यादों का
    किस्सा खोलूँ तो,
    कुछ दोस्त बहुत
    याद आते हैं….

…मै गुजरे पल को सोचूँ 
   तो, कुछ दोस्त 
   बहुत याद आते हैं….

…अब जाने कौन सी नगरी में,
…आबाद हैं जाकर मुद्दत से….

….मै देर रात तक जागूँ तो ,
    कुछ दोस्त 
    बहुत याद आते हैं….

….कुछ बातें थीं फूलों जैसी,
….कुछ लहजे खुशबू जैसे थे,
….मै शहर-ए-चमन में टहलूँ तो,
….कुछ दोस्त बहुत याद आते हैं.

…सबकी जिंदगी बदल गयी,
…एक नए सिरे में ढल गयी,

…किसी को नौकरी से फुरसत नही…
…किसी को दोस्तों की जरुरत नही….

…सारे यार गुम हो गये हैं…
….”तू” से “तुम” और “आप” हो गये है….

….मै गुजरे पल को सोचूँ
    तो, कुछ दोस्त बहुत याद आते हैं….

…धीरे धीरे उम्र कट जाती है…
…जीवन यादों की पुस्तक बन जाती है,
…कभी किसी की याद बहुत तड़पाती है…
  और कभी यादों के सहारे ज़िन्दगी कट जाती है …

….किनारो पे सागर के खजाने नहीं आते,
….फिर जीवन में दोस्त पुराने नहीं आते…

….जी लो इन पलों को हस के दोस्त,
    फिर लौट के दोस्ती के जमाने नहीं आते ….                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                        कभी कभी
                                                                                            आप अपनी जिंदगी से
                                                                                                  निराश हो जाते हैं,
                                                                                                      जबकि
                                                                                             दुनिया में उसी समय
                                                                                                   कुछ लोग
                                                                                             आपकी जैसी जिंदगी
                                                                                           जीने का सपना देख रहे होते हैं।

घर पर खेत में खड़ा बच्चा
आकाश में उड़ते हवाई जहाज
को देखकर
उड़ने का सपना देख रहा होता है,
परंतु
उसी समय
उसी हवाई जहाज का पायलट
खेत ओर बच्चे को देख
घर लौटने का सपना
देख रहा होता है।

यही जिंदगी है।
जो तुम्हारे पास है उसका मजा लो।

अगर धन-दौलत रूपया पैसा ही
खुशहाल होने का सीक्रेट होता,
तो अमीर लोग नाचते दिखाई पड़ते,
लेकिन सिर्फ गरीब बच्चे
ऐसा करते दिखाई देते हैं।

अगर पाॅवर (शक्ति) मिलने से
सुरक्षा आ जाती
तो
नेता अधिकारी
बिना सिक्युरिटी के नजर आते।
परन्तु
जो सामान्य जीवन जीते हैं,
वे चैन की नींद सोते हैं।

अगर खुबसुरती और प्रसिद्धि
मजबूत रिश्ते कायम कर सकती
तो
सेलीब्रिटीज् की शादियाँ
सबसे सफल होती।
जबकि इनके तलाक
सबसे सफल होते हैं

इसलिए दोस्तों,
यह जिंदगी ……

सभी के लिए खुबसुरत है
इसको जी भरकर जीयों,
इसका भरपूर लुत्फ़ उठाओ
क्योंकि
जिदंगी ना मिलेगी दोबारा…

सामान्य जीवन जियें…
विनम्रता से चलें …
और
ईमानदारी पूर्वक प्यार करें…

स्वर्ग यहीं है
एक ट्रक के पीछे एक
बड़ी अच्छी बात लिखी देखी….

“ज़िन्दगी एक सफ़र है,आराम से चलते रहो
उतार-चढ़ाव तो आते रहेंगें, बस गियर बदलते रहो”
 “सफर का मजा लेना हो तो साथ में सामान कम रखिए
और
जिंदगी का मजा लेना हैं तो दिल में अरमान कम रखिए !!

तज़ुर्बा है हमारा… . .. _मिट्टी की पकड़ मजबुत होती है,
संगमरमर पर तो हमने …..पाँव फिसलते देखे हैं…!

जिंदगी को इतना सिरियस लेने की जरूरत नही यारों,

यहाँ से जिन्दा बचकर कोई नही जायेगा!

जिनके पास सिर्फ सिक्के थे वो मज़े से भीगते रहे बारिश में ….

जिनके जेब में नोट थे वो छत तलाशते रह गए…

पैसा इन्सान को ऊपर ले जा सकता है;
           
लेकिन इन्सान पैसा ऊपर नही ले जा सकता……

कमाई छोटी या बड़ी हो सकती है….

पर रोटी की साईज़ लगभग  सब घर में एक जैसी ही होती है।

  :शानदार बात
मंजिल दूर और सफ़र बहुत है . छोटी सी जिन्दगी की फिकर बहुत है . मार डालती ये दुनिया कब की हमे . लेकिन “माँ” की दुआओं में असर बहुत है .

इन्सान की चाहत है कि उड़ने को पर मिले,

और परिंदे सोचते हैं कि रहने को घर मिले…
                 

कर्मो’ से ही पहचान होती है इंसानो की…

महेंगे ‘कपडे’ तो,’पुतले’ भी पहनते है दुकानों में !!..

892total visits,1visits today